नव वर्ष - 2020 विक्रम संवत - 2076 ( हिन्दू नव वर्ष )

नव वर्ष - 2020 विक्रम संवत - 2076 ( हिन्दू नव वर्ष )


  नव वर्ष शुरू होने वाला है, और ये बहुत अच्छा मौका है | अपने जीवन की नई शुरुआत करने का, हो सकता हो पुराने वर्षो मे आपको बहुत सारे दुखो व समस्याओ का सामना करना पड़ा होगा | लेकिन आपको नए साल से पुनः नए जीवन की शुरुआत करने का अवसर मिला है |

इस लेख मे आपको कुछ सफल जीवन जीने के नियम बताए जाएगे | अपने नए साल मे इन नियमों का नियमित पालन कर आप अपने जीवन मे धन, स्वास्थ्य व सुख समृद्धि का लाभ पा सकते है | और इस लेख के अंत मे बताया ज्ञान है, की नव वर्ष कैसे मनाए ? नए साल की शुरुआत कैसे करें ? नव वर्ष के दिन क्या करें ?

आइए जानते है की आप नये साल से अपने जीवन मे क्या परिवर्तन करें जिससे आप नव वर्ष के साथ अपने जीवन मे परिवर्तन कर सके -

1) घर मे सुख - शांति के लिए :



यह कुछ नियम नव वर्ष मे आपके जीवन मे कई बदलाव ला सकते है | नए साल मे इन्हे अपनाकर बेहतर तरीके से नए साल की शुरुआत करें |



  • बिस्तर पर बैठ कर कभी खाना न खाएं, ऐसा करने से बुरे सपने आते हैं |
  • घर में जूते-चप्पल इधर-उधर बिखेर कर या उल्टे सीधे करके नहीं रखें, इससे घर में अशांति उत्पन्न होती है |
  • धूप, दीप, आरती, पूजा अग्नि जैसे पवित्रता के प्रतीक साधनों को मुंह से फूंक मारकर न बुझाएं |
  • घर के मुख्य द्वार पर दाईं तरफ स्वस्तिक बनाएं |
  • घर में कभी भी जाले न लगने दें, अन्यथा घर में राहु का असर रहेगा |
  • शाम के समय न सोएं | रात्रि में सोने से पहले अपने इष्टदेव का स्मरण अवश्य करें |
  • घर के मध्य भाग में जूठे बर्तन साफ करने का स्थान नहीं बनाना चाहिए |


2) धन समृद्धि के लिए :




  • घर में कभी भी झाड़ू को खड़ा करके नहीं रखें | उसे पैर नहीं लगाएं, न ही उसके ऊपर से निकलें, अन्यथा घर में बरकत की कमी हो जाती है |
  • नल से पानी का टपकना आर्थिक क्षति का संकेत है | टपकते नल को जल्द से जल्द ठीक करवाएं |
  • कभी भी ब्रह्ममुहूर्त या संध्याकाल को झाड़ू नहीं लगाना चाहिए | झाड़ू को ऐसी जगह रखें, जहां किसी अतिथि की नजर न पहुंचे |
  • शर्ट और पेंट की जेब फटी हो तो उसे ठीक करवाएं | और बटुए या रुपए को पेंट की पीछे वाली जेब में न रखें |
  • पूजाघर के अलावा देवी या देवता की मूर्ति या चित्र घर के अन्य किसी हिस्से में न लगाएं |
  • श्री महालक्ष्मी का ध्यान करके मस्तक पर शुद्ध केसर का तिलक लगाएं और प्रतिदिन सुबह और शाम को कपूर जलाएं |
  •  सोने से पूर्व पैरों को ठंडे पानी से धोना चाहिए किंतु गीले पैर लेकर नहीं सोना चाहिए | इससे धन का नाश होता है |
  • घर में या वॉशरूम में कहीं भी मकड़ी का जाला न बनने दे | व घर में कहीं भी कचरा या अटाला जमा न होने दें|
  • नित्य देहरी की पूजा करने से व देहरी के आसपास घी के दीपक लगाने से घर में स्थायी लक्ष्मी निवास करती है |
  • संधिकाल में अनिष्ट शक्तियां प्रबल होने के कारण इस काल में निम्नलिखित कार्य न करें - सोना, खाना-पीना, गालियां देना, झगड़े करना, अभद्र एवं असत्य बोलना, क्रोध करना, शाप देना, यात्रा के लिए निकलना, शपथ लेना, धन लेना या देना, रोना, वेद मंत्रों का पाठ, शुभ कार्य करना, चौखट पर खड़े होना|


यह कुछ नियम अपनाकर आप नए साल मे धन संबंधित परेशनियो से बच सकते है और बेहतर तरीके से नव वर्ष से अपने नये जीवन की शुरुआत कर सकते है |

3) कुछ वास्तु टिप्स :




वास्तुशास्त्र हमारे जीवन मे अहम् भूमिका निभाता है | इन वास्तु टिप्स को अपनाकर आप बेवजह हो रहे ग्रह कलह व परेशनियो को दूर कर सकते हो | इस नव वर्ष मे इन नियमों का पालन करें और अपने नए साल की शुरुआत करें |

  • हर गुरुवार को तुलसी के पौधे को दूध चढ़ाना चाहिए |
  • तवे पर रोटी सेकने से पूर्व दूध के छींटे मरना शुभ है |
  • मकान मे तीन दरवाजे एक ही रेखा मे न रखे |
  • सूखे फूल घर मे न रखे |
  • घर में टूटी-फूटी, कबाड़, अनावश्यक वस्तुओं को नहीं रखें।
  • पलंग पर स्टील के बर्तन न रखें, इससे स्वास्थ्य लाभ में कमी आ सकती है |
  • तुलसी के गमले में दूसरा और कोई पौधा न लगाएं, ऐसा करने से धनहानि हो सकती है या बनते काम बिगड़ सकते हैं |
  • घर में तुलसी का पौधा पूर्व दिशा की गैलरी में या पूजा स्थान के पास रखें |
  • घर में रोज सुबह या समय-समय पर गौमूत्र का छिड़काव करना चाहिए। गौमूत्र की तेज गंध से स्वास्थ्य लाभ मिलता है और वातावरण पवित्र होता है |
  • सुख-समृद्धि के लिए घर के दरवाजे पर स्वस्तिक या श्री गणेश का चिह्न लगाएं |

4) आध्यांत्मिक मार्ग पर चलना शुरू करें  :



आध्यत्मिकता का ज्ञान होने से आप अपने जीवन मे सही निर्णय ले पाएगे और अपने जीवन को सही राह पर लेकर चल पाएगे | आध्यांत्मिक व्यक्ति बनने के लिए आपको ज्ञान की खोज करते रहना होगा | नए साल मे लगातार बेहतर व्यक्ति बनने का प्रयास करते रहे | सकारात्मक लोगो के साथ रहे व स्वयं भी सकरात्मकता फैलाते रहे |
प्रेरणादयाक, पौराणिक पुस्तकों व शैक्षिक गतिविधियों मे लगे रहे | अगर सरल शब्दों मे कहा जाए तो आपको
आध्यांत्मिक व्यक्ति बनने के लिए लगातार बढ़ते रहना है और हिन्दू नव वर्ष मे बेहतर इंसान बनने के मार्ग पर
चलते रहना है |

अभी तक आपने जाना की नए साल मे आप किस प्रकार नित्यप्रति दिन के कार्यों मे बदलाव कर अपने जीवन को सुखमय बना सकते हो | और अब आप जानोगे की नए साल के दिन आपको क्या करना चाहिए ? नव वर्ष (1 जनवरी ) को कैसे मनाए? किस प्रकार नए साल की शुरुआत करें ? आइए जानते है नए

5) साल की जानकारी -




सबसे पहले सुबह उठकर अपने घर की सफाई करें | फिर स्नान करके पुरे घर मे गोमूत्र का छिड़काव करें, जिससे घर शुद्ध हो जाएगा | फिर अपने घर, ऑफिस या दुकान के गेट पर ॐ, श्री या स्वस्तिक बनाए | और ध्यान रखिए स्नान कर आपको अच्छे वस्त्र पहनना है और उनपर इत्र का छिड़काव करना है |

अपने नहाने के पानी मे थोड़ा सा दूध और हल्दी डालकर स्नान करें | और घर की स्त्रियों को लाल रंग के वस्त्र पहनना चाहिए क्युकी यह समृद्धि को आकर्षित करता है | और माता लक्ष्मी का निवास आपके घर मे हमेशा बना रहेगा | पुरुषो को क्रीम या सफेद रंग के वस्त्र पहनना है |

स्नान के बाद आपको ताम्बे के लोटे मे जल लेकर उसमे थोड़ा सा सिंदूर व गुड़ मिलाकर सूर्य भगवान को अर्ग देना है | अब ताम्बे, पीतल या चांदी के लोटे मे पंचामृत लेकर शिव जी का और अपने इष्ट देव का अभिषेक करें | और ॐ रुद्राय नमः मन्त्र का जाप करें | इस दिन आप जो भी भोजन बनाए पहला टुकड़ा गौ माता के लिए निकाल ले | और नव वर्ष के दिन दान करना न भूले | ध्यान रखे इस दिन आपको कोई भी अशुभ काम नहीं करना है जैसे - बाल काटना, चुगली करना, क्लेश करना, किसी से झगड़ना व मास मदिरा का सेवन करना |

इस प्रकार नये साल मे इन नियमों का पालन कर आप नए साल की शुरुआत के साथ अपने नए जीवन की भी शुरुआत कर सकते है | और अपने पुराने दुखो व समस्याओ को भुलाकर नव वर्ष से नए जीवन को शुरू कर सकते है | यह थी कुछ नए साल की जानकारी जिससे आपको अपने जीवन को सही तरह से जीने मे मदद मिलेगी | आप सभी को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाए | नव वर्ष -2020, विक्रम संवत - 2076 ( हिन्दू नव वर्ष )


प्रवचन

दोबारा पड़ने के लिए आप www.pravachan.website पर आइए और अपने दोस्तों को whats app पर शेयर करिए | 

आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद || 
मिलते हुए पोस्ट