खुश रहने के तरीके | मन को कंट्रोल करने का मन्त्र जो कोई नहीं बताएगा आपको |

खुश रहने के तरीके:


खुश रहने के तरीके


यदि आप अपने दैनिक जीवन मे दुखी रहते है, या किसी न किसी बात से हमेशा परेशान रहते है | तो यह प्रवचन website आपके सभी दुखो को दूर करने मे मदद करेगा ओर आपको खुश रहने के तरीके बताएँगे |

इस प्रवचन को पड़ने से आपको अपने दुखो का कारण पता चलेगा और कहानियो के माध्यम से दुखो को दूर कर खुश रहने मे आपको मदद मिलेगी |
इस प्रवचन website मे कुछ खुश रहने के तरीके भी बताए गए है, जिसका आसान से अनुसरण कर आप हमेशा खुश रह सकते है और पता कर सकते है की हमेशा मन को कैसे खुश रखे |
तो आइए एक कहानी के माध्यम से शुरू करते है -

एक साधु की कहानी:


खुश रहने के तरीके

       एक समय की बात है, गांव से दूर कुटिया मे एक साधू रहता था | एक व्यक्ति रोज वहा से गुजरता था, और उस साधु को देखता था, एक दिन वह व्यक्ति साधु के पास गया और उनसे कहने लगा- की मे एक व्यापारी हु और मेरे पास खूब सारा धन है | लेकिन मे हमेशा दुखी रहता हु, लेकिन आप के पास तो थोड़ा भी धन नहीं है और आपका तो जीवन भी भिक्षा के सहारे चल रहा है | फिर आप हमेशा इतने खुश कैसे रहते हो, कृपया मुझे भी बताए की अपने आप को कैसे खुश रखे मुझे भी हमेशा खुश रहने का उपाय बताए |
        साधु ने कहा ठीक है चलो मेरे साथ, और दोनों जंगल की और चल दिये | कुछ समय चलने के बाद एक नदी आयी, साधु ने उस व्यक्ति से नदी किनारे से एक बड़ा पत्थर उठाने को कहा, वह व्यक्ति पत्थर उठाकर साधु के साथ आगे चलने लगा | थोड़ी दूर चलने पर उस व्यक्ति के हाथों मे दर्द शुरू हो गया| फिर भी वह उस पत्थर को लेकर चलता रहा लेकिन कुछ समय बाद दर्द बहुत बढ़ गया, और उसने साधु से पत्थर को नीचे रखने के लिए पूछा | साधु ने कहा - की तुम इसे नीचे क्यों रखना चाहते हो? तो व्यक्ति ने जवाब दिया - की पत्थर के वजन से मेरे हाथों मे दर्द हो रहा है |
         तब उस साधु ने जवाब दिया, इसी तरह हम भी अपने जीवन मे कई प्रकार के दर्द, बोझ, परेशानियों को उठाकर चलते है | जो हमारे दुखो का कारण है हम छोटी-छोटी बातों को मन मे रख कर उसके लिए परेशान होते रहते है | यही दुख का कारण है | और इसके विपरीत चलना खुश रहने का मूल मंत्र है | यह आप पर ही निर्भर करता है, की आप खुश कब होंगे | मैं कभी परेशानियों का बोझ अपने पास नहीं रखता इसलिए मैं खुश हुं |
         और दोनों जंगल मे जाकर एक पेड़ के नीचे बैठ गए | उस व्यक्ति ने साधु से कहा की मुझे अपने दुखो का कारण तो पता चल गया | लेकिन हमारा मन तो चंचल है, न चाहते हुए भी यह बुरी चीजों को आकर्षित करता है | क्या आप बता सकते हो, की हम अपने मन को एकाग्र कैसे करें ? मन को पवित्र कैसे करें ? और जब मन उदास हो तो क्या करना चाहिए ?
साधु ने कहा मैं तुम्हें कुछ ख़ुशी जीवन के नियम बताने जा रहा हु | जिसका पालन कर तुम हमेशा जीवन मे खुश रहो | यदि तुम इन नियमों का पालन करते हो, तो तुम जीवन मे हमेशा खुश रहोगे | ध्यान से सुनो- अब मैं तुम्हें मन को शुद्ध कैसे करें यह बता रहा हुं|



मन को कंट्रोल करने का मन्त्र :


खुश रहने के तरीके

  1. अपने आप को हमेशा किसी न किसी काम मे व्यस्त रखे,  जिससे आपको बुरी बाते सोचने का समय ही न मिल पाए |
  2. भगवान की भक्ति मे लगे रहे, इससे आपका मन पवित्र रहेगा और यह आपके मन को स्थिर रखने मे आपकी मदद करेगा |
  3. अपने खाली समय मे पौराणिक ग्रंथो का अध्ययन करे |
  4. अपनी सोच को हमेशा सकारात्मक बनाए रखे |
  5. बुरी आदतों से दूर रहे |


मन को खुश रखने के उपाय :


खुश रहने के तरीके

  • अपने क्रोध पर काबू रखिये, और जब क्रोध आए- तो शांत रहने की कोशिश करें |
  • बीती बातों को भूल जाए, भूतकाल के बारे मे सोचते रहने से हम और ज्यादा परेशान रहते है |
  • क्षमा करना सीखीए, क्युकी जब आप किसी को क्षमा करते है,
  • तो आपका मन शांत हो जाता है और अंदरुनी खुशी का अनुभव होता है |
  • हमेशा स्वस्थ्य रहे, जिससे आपको शारीरिक परेशानियाँ न हो |
  • दुसरो से अपनी तुलना न करें, यही असल दुखो का कारण होता है | हम अपने पास क्या है, यह कभी नहीं समझ पाते और हमेशा खुद को दुसरो से कम समझते है |



अवचेतन मन को कैसे आदेश दे :


खुश रहने के तरीके

हमें अपने मन के अनुसार नहीं चलना चाहिएबल्कि मन को अपने अनुसार चलना चाहिए | हमें अपने अवचेतन मन को आदेश देना चाहिए, ताकि वह हमारे अनुसार चल सके | योग (ध्यान लगाना ) करने से आप अपने अवचेतन मन पर काबू पा सकते है | ध्यान लगाने से आपकी इन्द्रिया जाग्रत होती है | जिससे आप अपने मन को वश मे कर सकते है | साथ ही यह आपके पुराने नकारात्मक विचारों को भी दूर करता है | साधु ने कहा यही खुश खुश व स्वास्थ रहने के उपाय है | और इस तरह दोनों अपनी बाते करते हुए कुटिया की और चल दिये | वह व्यक्ति ख़ुशी ख़ुशी अपने घर गयाऔर इन नियमों का पालन करते हुए, अपने जीवन को ख़ुशी के साथ बिताने लगा | और लोगो को भी दिमाग़ को ठंडा रखने के उपाय बताने लगा, जिससे सभी के दुख दूर हो सके |


खुश रहने की शायरी :


"खुश रहने का मतलब यह नहीं की सब कुछ ठीक है, इसका मतलब यह है, की आपने अपने दुखो से ऊपर उठकर जीना सिख लिया है"


"कामयाब व्यक्ति खुश रहे न रहे, लेकिन खुश व्यक्ति हमेशा कामयाब होता है"

प्रवचन

दोबारा पड़ने के लिए आप www.pravachan.website पर आइए और अपने दोस्तों को whats app पर शेयर करिए | 
आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद || 
मिलते हुए पोस्ट